“प्रितम छबी नैनन बसी” ओशो..

000a

एक कवि सम्मेलनमे
ठहाका मारते संयोजकने कहा,
भाईओ, अबतक आप सुन रहे थे मोर बनारसीको,
अब सुनिये चोर ईटारसीको”
चोर कवि मंचपर आया,
और उसने सुनाया,
“मैया मोरी मैं नहीं माखन खाया”
पब्लिकसे आवाझ आई, ‘अबे चुपकर’
‘यह तो सुरदासने गाया’
कवि बोला, “आप ठीक कह रहे है”
‘सुरदासतो देख नहीं पाते थे,
तब हामारे परदआदा के परदादा  उसे डायरीमे चढाते थे,
तो उनकी रचना सुनाना हमारा पुस्तैनी हक है.”
जनता बोली, “उसमें क्या शक है”
कविने कहा, ‘कोई महाकवि,
दुसरोंकी पूरीकी पूरी कविता फेर लेते है,
आप लोग उसे झेल लेते है,
उनकी तो हर रात गुजरती है दिवालिकी तरह,
हमने तो एक बल्ब चुरायातो आप बुरा मान गये?
हमतो अपना नाम सार्थक कर रहे है,
चोरीकी नहीं सुनायेंगे तो,
चोर ईटारसी कैसे कहलवायेंगे?”
जनता ने कहा,’ठीक है, अब और सुनाईये”
चोरजीने दुसरी कविता प्रारंभकी,
“पंडितजी, मेरे मरनेके बाद,
ईतना फर्ज निभा देना”
वहां पीछेसे आवाज आई,
” यह तो धर्म खलिफाका है”
कवि बोला,’ उन्होंने भी दिल्हिके एक पंजाबी कविसे चुराया है.
यह बात ओर है की उनके नामपर फिल्ममे आया है.
चोरके घर चोरी करनेमें अपुन नहीं शरमाता है.
जो माल जैसे आता है वैसे ही जाता है.
और रही हमारी बात,
तो भैया, हमतो जनरल स्टोर चलाते है.
सब सामान दुकानमे सजाते है.
खुद थोडेही बनाते है?
कोई किसी कंपनीका लाते है
तो कोई किसी कंपनी का लाते है.
वो अलग बात है की
हम लेबल अपने नामका लगाते है.
अरे! जब हम निर्भय होकर सुना रहे है,
तो आप क्यों गभरा रहे है?
चोरीका माल खरिद सकते है,
चोरीकी कविता नही सुन सकते?
भाईओ, हिन्दुस्तान बहुत बडा है.
जिसकी कविता है वह कंहा कंहा गायेगा?
कीस कीस शहर जायेगा?
हमतो उनकी रचना
आप तक पहुंचानेका कष्ट उठा रहे हैं,
संन्यासी होकरभी
आपकी खुशीके लिये २००० लेके जा रहे है,
कैसा बुरा जमाना आ गया है,
एक इमानदार डिस्ट्रीब्युटरको,
आप चोर बता रहे है.”
ओशो..
“प्रितम छबी नैनन बसी”

000b

 પ્રસાદ

Sharad Shah एक कवि सम्मेलनमे 

તરફથી

1 Comment

Filed under Uncategorized

One response to ““प्रितम छबी नैनन बसी” ओशो..

  1. readsetu

    majaa aavi gai…. vaah kavi vah..

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s