जो सच्चा है उसे नष्ट करना होगा–या पूजा करनी होगी ! – ओशोસમસ્યાઓનું નિરાકરણ/ શિરીષ દવે

On Tuesday, August 18, 2015 3:08 AM, Sharad Shah <sns1300@gmail.com> wrote:
 जो सच्चा है उसे नष्ट    करना होगा–या पूजा
करनी    होगी ! – ओशो
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/joinयदि एक व्यक्ति भीड़
के विपरीत जाता है–जीसस या बुद्ध–भीड़ इस व्यक्ति के साथ अच्छा महसूस
नहीं करती I http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/join
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/joinभीड़ उसे नष्ट कर
देगी; या, यदि भीड़ बहुत सभ्य है, भीड़ उसकी पूजा शुरू कर देगी।
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/join
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/joinलेकिन दोनों ही ढंग
एक जैसे हैं। http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/join
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/joinयदि भीड़ थोड़ी असभ्य
है, जंगली है, जीसस को सूली दे देगी।
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/join
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/joinयदि भीड़ भारतीयों
जैसी होगी–बहुत सभ्य, सदियों पुरानी सभ्यता, अहिंसक है, प्रेमपूर्ण है,
आध्यात्मिक है– http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/join
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/joinवे बुद्ध की पूजा
करेंगे। लेकिन पूजा के द्वारा वे कह रहे हैं :
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/join
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/joinहम अलग हैं, आप अलग
हैं। http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/join
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/joinहम आपका अनुसरण नहीं
कर सकते, हम आपके साथ नहीं आ सकते।
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/join
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/joinआप अच्छे हैं, बहुत
अच्छे हैं, सच में बहुत अच्छे हैं। लेकिन आप हमारे जैसे नहीं हैं।
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/join
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/joinआप परमात्मा हैंै–
हम आपकी पूजा करेंगे। लेकिन हमें तकलीफ न दो; ऐसी बातें हमें मत कहो जो
हमारी चूलों को हिला दे, जो हमारी गहरी नींद को खराब कर दे।
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/join
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/joinजीसस की हत्या करो या
बुद्ध की पूजा करो–दोनों एक ही बातहै।
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/join
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/joinजीसस की हत्या कर दी
गई ताकि भीड़ भूल सके कि ऐसा कोई व्यक्ति हुआ भी, क्योंकि यदि यह व्यक्ति
सच्चा है… और यह व्यक्ति सच्चा है।
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/join
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/joinइसका पूरा होना इतना
आनंद और आशीष से भरा है कि वह सच्चा है;
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/join
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/joinचूंकि सत्य को देखा
नहीं जा सकता, बस खूशबू जो सत्य से आती है, व्यक्ति महसूस कर सकताहै।
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/join
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/joinआनंद को महसूस किया
जा सकता है, और यह सबूत है कि यह व्यक्ति सच्चा है।
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/join
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/joinपर यदि यह व्यक्ति
सच्चा है, तब सारी भीड़ गलत हो जाती है, और यह बहुत ज्यादा हो जाता है।
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/join
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/joinसारी भीड़ ऐसे व्यक्ति
को बर्दाश्त नहीं कर सकती; वह कांटा है, पीड़ादायी है।
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/join
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/joinइस व्यक्ति को नष्ट
करना होगा– http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/join
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/joinया पूजा करनी होगी,
ताकि हम कह सकें ः http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/join
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/joinआप किसी दूसरी दुनिया
से आए हैं, आप हम में से नहीं हैं। आप अनूठे हैं, आप सामान्य नियम नहीं
हैंै। हो सकताहै कि आप अपवाद हैं, लेकिन अपवाद सिर्फ नियम को सिद्ध करते
हैं। आप आप हैं, हम हम हैं ः हम अपनी राह चलेंगे।
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/join
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/joinशुभ है कि आप आए– हम
आपका बहुत सम्मान करते हैं– लेकिन हमें परेशान ना करो।
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/join
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/joinहम बुद्ध को मंदिर
में रख देते हैं ताकि उन्हें बाजार में आने की जरूरत ना पड़े; वर्ना वे
परेशानी पैदा करेंगे !
http://groups.yahoo.com/group/Amdavadis4Ever/join

…………………………..
મિત્રો,
તમારા વ્યસ્ત જીવનમાંથી થોડો સમય ફાળવી, આ એટેચમેન્ટમાંનો લેખ વાંચશો તો સમજાશે કે આપણા આજના પ્રશ્નોનું કારણ શું છે. એમા દર્શાવેલો ઉકેલ આજે સંપૂર્ણપણે લાગુ ન પડે, પણ એ વિચારધારાને આધારે આપણે એના નવા ઉકેલ શોધી શકીએ.
અત્યારે સમય ન હોય તો Save કરી લેજો, અને સમય હોય ત્યારે જરૂર વાંચજો. હજી લખાઈ રહ્યું છે.
સસ્નેહ,
શિરીષ મોહનલાલ દવે

સમસ્યાઓનું નિરાકરણ એટલે નવ્ય ગાંધીવાદ સમગ્ર

1 Comment

Filed under અધ્યાત્મ, ઘટના, Uncategorized

One response to “जो सच्चा है उसे नष्ट करना होगा–या पूजा करनी होगी ! – ओशोસમસ્યાઓનું નિરાકરણ/ શિરીષ દવે

  1. પજ્ઞાબેન એક જ થાળીમા જૂદી જૂદી સરસ વાનગીનો ખીચડો બનાવી દીધો. બધી લિન્ક ક્યારે જોવાશે?

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s