प्राचीन स्वास्थ्य दोहावली -जीवनोपयोगी बातें

0

“प्राचीन स्वास्थ्य दोहावली”

पानी में गुड डालिए, बीत जाए जब रात!

सुबह छानकर पीजिए, अच्छे हों हालात!!

धनिया की पत्ती मसल, बूंद नैन में डार!

दुखती अँखियां ठीक हों, पल लागे दो-चार!!

ऊर्जा मिलती है बहुत, पिएं गुनगुना नीर!

कब्ज खतम हो पेट की, मिट जाए हर पीर!!

प्रातः काल पानी पिएं, घूंट-घूंट कर आप!

बस दो-तीन गिलास है, हर औषधि का बाप!!

ठंडा पानी पियो मत, करता क्रूर प्रहार!

करे हाजमे का सदा, ये तो बंटाढार!!

भोजन करें धरती पर, अल्थी पल्थी मार!

चबा-चबा कर खाइए, वैद्य न झांकें द्वार!!

प्रातः काल फल रस लो, दुपहर लस्सी-छांस!

सदा रात में दूध पी, सभी रोग का नाश!!

प्रातः- दोपहर लीजिये, जब नियमित आहार!                                                  

तीस मिनट की नींद लो, रोग न आवें द्वार!!

भोजन करके रात में, घूमें कदम हजार!

डाक्टर, ओझा, वैद्य का , लुट जाए व्यापार !!

घूट-घूट पानी पियो, रह तनाव से दूर!

एसिडिटी, या मोटापा, होवें चकनाचूर!!

अर्थराइज या हार्निया, अपेंडिक्स का त्रास!

पानी पीजै बैठकर,  कभी न आवें पास!!

रक्तचाप बढने लगे, तब मत सोचो भाय!

सौगंध राम की खाइ के, तुरत छोड दो चाय!!

सुबह खाइये कुवंर-सा, दुपहर यथा नरेश!

भोजन लीजै रात में, जैसे रंक सुरेश!!

देर रात तक जागना, रोगों का जंजाल!

अपच,आंख के रोग सँग, तन भी रहे निढाल^^

दर्द, घाव, फोडा, चुभन, सूजन, चोट पिराइ!

बीस मिनट चुंबक धरौ, पिरवा जाइ हेराइ!!

सत्तर रोगों कोे करे, चूना हमसे दूर!

दूर करे ये बाझपन, सुस्ती अपच हुजूर!!

भोजन करके जोहिए, केवल घंटा डेढ!

पानी इसके बाद पी, ये औषधि का पेड!!

अलसी, तिल, नारियल, घी सरसों का तेल!

यही खाइए नहीं तो, हार्ट समझिए फेल!

पहला स्थान सेंधा नमक, पहाड़ी नमक सु जान!

श्वेत नमक है सागरी, ये है जहर समान!!

अल्यूमिन के पात्र का, करता है जो उपयोग!

आमंत्रित करता सदा, वह अडतालीस रोग!!

फल या मीठा खाइके, तुरत न पीजै नीर!

ये सब छोटी आंत में, बनते विषधर तीर!!

चोकर खाने से सदा, बढती तन की शक्ति!

गेहूँ मोटा पीसिए, दिल में बढे विरक्ति!!

रोज मुलहठी चूसिए, कफ बाहर आ जाय!

बने सुरीला कंठ भी, सबको लगत सुहाय!!

भोजन करके खाइए, सौंफ,  गुड, अजवान!

पत्थर भी पच जायगा, जानै सकल जहान!!

लौकी का रस पीजिए, चोकर युक्त पिसान!

तुलसी, गुड, सेंधा नमक, हृदय रोग निदान!

चैत्र माह में नीम की, पत्ती हर दिन खावे !

ज्वर, डेंगू या मलेरिया, बारह मील भगावे !!

सौ वर्षों तक वह जिए, लेते नाक से सांस!

अल्पकाल जीवें, करें, मुंह से श्वासोच्छ्वास!!

सितम, गर्म जल से कभी, करिये मत स्नान!

घट जाता है आत्मबल, नैनन को नुकसान!!

हृदय रोग से आपको, बचना है श्रीमान!

सुरा, चाय या कोल्ड्रिंक, का मत करिए पान!!

अगर नहावें गरम जल, तन-मन हो कमजोर!

नयन ज्योति कमजोर हो, शक्ति घटे चहुंओर!!

तुलसी का पत्ता करें, यदि हरदम उपयोग!

मिट जाते हर उम्र में,तन में सारे रोग। 🌸

    000    👉जीवनोपयोगी बातें :-

1- सुबह उठ कर कैसा पानी पीना चाहिए?

उत्तर:   हल्का गर्म

2- पानी पीने का क्या तरीका होता है?

उत्तर  सिप सिप करके व नीचे बैठ कर.

3 -खाना कितनी बार चबाना चाहिए?

उत्तर:  32 बार

4- पेट भर कर खाना कब खाना चाहिए?

उत्तर:  सुबह.

5- सुबह का खाना कब तक खा लेना चाहिए?

उत्तर: सूरज निकलने के ढाई घण्टे तक.

6- सुबह खाने के साथ क्या पीना चाहिए?

उत्तर:  जूस

7- दोपहर को खाने के साथ क्या पीना चाहिए?

उत्तर:  लस्सी/छाछ.

8 -रात को खाने के साथ क्या पीना चाहिए?

उत्तर:  दूध.

9 -खट्टे फल किस समय नही खाने चाहिए?

उत्तर:  रात को.

10 -लस्सी खाने के साथ कब पीनि चाहिए?

उत्तर:  दोपहर को.

11 -खाने के साथ जूस कब लिया जा सकता है?

उत्तर:  सुबह.

12 -खाने के साथ दूध कब ले सकते है?

उत्तर:  रात को.

13 -आईसक्रीम कब खानी चाहिए?

उत्तर:  कभी नही.

14- फ्रीज़ से निकाली हुई चीज कितनी देर बाद खानी चाहिए?

उत्तर:  1 घण्टे बाद.

15- क्या कोल्ड ड्रिंक पीना चाहिए?

उत्तर:  नहीं.

16 -बना हुआ खाना कितनी देर बाद तक खा लेना चाहिए?

उत्तर:  40 मिनट.

17–रात को कितना खाना खाना चाहिए?

उत्तर:   न के बराबर.

18 -रात का खाना किस समय कर लेना चाहिए?

उत्तर:- सूरज छिपने से पहले.

19 -पानी खाना खाने से कितने समय पहले पी सकते हैं?

उत्तर:  48 मिनट

20-क्या रात को लस्सी पी सकते हैं?

उत्तर:  नही.

21 -सुबह खाने के बाद क्या करना चाहिए?

उत्तर:  काम

22 -दोपहर को खाना खाने के बाद क्या करना चाहिए ?

उत्तर:  आराम.

23 -रात को खाना खाने के बाद क्या करना चाहिए?

उत्तर:  500 कदम चलना चाहिए.

24 -खाना खाने के बाद हमेशा क्या करना चाहिए?

उत्तर:  वज्र आसन.

25 -खाना खाने के बाद वज्रासन कितनी देर करना चाहिए?             

 उत्तर:  5-10 मिनट.

26 -सुबह उठ कर आखों मे क्या डालना चाहिए?

उत्तर:  मुंह की लार.

27 -रात को किस समय तक सो जाना चाहिए

उत्तर:  9-10बजे तक.

28- तीन जहर के नाम बताओ?

उत्तर: चीनी, मैदा, सफेद नमक.

29 -दोपहर को सब्जी मे क्या डाल कर खाना चाहिए?

उत्तर:  अजवायन.

30 -क्या रात को सलाद खानी चाहिए?

उत्तर:  नहीं.

31 -खाना हमेशा कैसे खाना चाहिए

उत्तर:  नीचे बैठकर व खूब चबाकर.

32 -चाय कब पीनी चाहिए?

उत्तर:  कभी नहीं.

33- दूध मे क्या डाल कर पीना चाहिए?

उत्तर:  हल्दी.

34–दूध में हल्दी डालकर क्यों पीनी चाहिए?

उत्तर:  कैंसर ना हो इसलिए.

35 -कौन सी चिकित्सा पद्धति ठीक है?

उत्तर:  आयुर्वेद.

36 -सोने के बर्तन का पानी कब पीना चाहिए?

उत्तर:  अक्टूबर से मार्च (सर्दियों मे)?

37–ताम्बे के बर्तन का पानी कब पीना चाहिए?

उत्तर:   जून से सितम्बर(वर्षा ऋतु).

38 -मिट्टी के घड़े का पानी कब पीना चाहिए?

उत्तर:  मार्च से जून (गर्मियों में).

39 -सुबह का पानी कितना पीना चाहिए?

उत्तर:  कम से कम 2-3 गिलास.

40 -सुबह कब उठना चाहिए?

उत्तर:  सूरज निकलने से डेढ़ घण्टा पहले.

00000

१)चावल उबलने के बाद जो माढ बचे उसे फेके नहीं उसमे नीबू का रस मिला के उसे बालो में लगाये बाल चमकदार और मुलायम हो जायेंगे.

२)पनीर बनाने के बाद जो दूध का पानी बचे उससे आटा गुंथे, रोटी पराठे बहुत स्वादिष्ट बनेगे.

३)अगर मिक्स वेज कटलेट बना रहे है तो सब्जी उबलने के बाद जो पानी बचे उसे सूप में या फिर दाल पकाने में डाल दे दाल बहुत ही स्वादिष्ट बनेगी.

४)लौकी का हलवा बनाते समय अगर लौकी में मलाई डाल के भूने तो हलवा अधिक स्वादिष्ट बनेगा.

५)मिर्च पाउडर को डिब्बे में भरने से पहले तली में थोडा सी हींग डालने से उसमे कीड़े नहीं पड़ते है.

६)दही बड़े बनाते समय पिसी हुई दाल में थोडा दही मिला के फेटे दही बड़े अधिक स्वादिष्ट और मुलायम बनेगे.

७)अंकुरित दालो को ज्यादा समय तक ताजा रखने के लिए नीबू का रस मिला कर फ्रिज में रखे.

८)कचौडिया बनाते समय मैदे में थोडा सा दही डाल के गुथे. कचौडिया मुलायम बनेगी.

९)दही जमाते समय दूध में थोडा सा नारियल का टुकड़ा डाल दे दही 2-3 दिनों तक ताजा रहेगा.

१०)मूंगदाल के चीले बनाते समय दाल में 2 बडे चम्मच चावल का आटा मिला दे, चीले कुरकुरे बनेगे.

११)देसी घी को ज्यादा दिनों तक ताजा रखने के लिए उसमे एक टुकड़ा गुड़ और एक टुकड़ा सेंधा नमक डाल दे. घी ताजा बना रहेगा.

१२)पेपर डोसा बनाते समय मिश्रण में 2 चम्मच मक्के का आटा मिला दे दोसे करारे बनेगे.

१३)नीबू का रस निचोड़ने के बाद छिल्का फेके नहीं छिल्के को किसी साफ़ बरनी में डालती जाये साथ में नमक भी डाल दे बीच बीच में धूप में रख दे कुछ ही दिनों में नीबू का आचार तैयार हो जायेगा.

१४)पनीर या चीज़ कद्दुकस करते समय कद्दूकस पर थोडा तेल लगा ले पनीर और चीज़ चिपकेगा नहीं.

१५)सुबह गोभी की सब्जी बनानी है तो गोभी को रात में बड़े टुकडो में तोड़ कर नमक के पानी में डाल कर रख दे गोभी के कीड़े निकल जायेगे तथा गोभी सफ़ेद और खिली खिली बनेगी.

१६)दूध या खीर जल जाये तो उसमे 2-3 पान के पत्ते डाल के गर्म करे जलने की खुशबू चली जाएगी.

१७)केक बनाते समय मैदा और बेकिंग पाउडर ताजा ही डाले नहीं तो वह अच्छे से नहीं फूलेगा.

१८)चावल में चूने के टुकड़े डाल कर रखने से कीड़े नहीं पड़ेगे.

१९)संतरे के सूखे छिलकों को जलाने से मच्छर भाग जाते है.

२०)धनिया के पत्तो की चटनी बनाते समय थोडा सा खसखस डालने से बहुत स्वादिष्ट चटनी बनती है .

२१)बचे हुए ढोकले या इडली को छोटे टुकडो में काट कर बेसन के घोल में डुबा कर पकोड़े बना ले.

२२)भिन्डी बनाते समय एक चम्मच दही डाल दे तो भिन्डी बर्तन में चिपकेगी नहीं और बहुत स्वादिष्ट बनेगी.

२३)इडली दोसे का घोल अगर खट्टा हो गया है तो थोडा नारियल का दूध मिला दे खटास दूर हो जाएगी.

२४)मिर्च के डंठल तोड़ के फ्रिज में रखे बहुत दिनों तक मिर्च खराब नहीं होंगे.

२५)हलवा बनाते समय सूजी में गरम पानी डाले तो गाठे नहीं पड़ेगी.

२६)पालक का सूप बनाते समय पालक को उबालते समय लौकी के कुछ टुकडो को डाल दे पालक का कसैलापन दूर हो जायेगा.

२७)सूजी और दलिया हमेशा भून कर रखे कीड़े भी नहीं पड़ेगे और बनाते समय भी आसानी होगी.

२८)दही अगर खट्टा हो गया है तो दही को बड़े बर्तन में डाल के ऊपर से पानी भर दे. 4-5 घंटे के बाद पानी ऊपर आ जायेगा उसे धीरे से निकाल दे दही का खट्टापन दूर हो जायेगा.

२९)धनिया के डंठल काट के बारीक कपडे में लपेट कर स्टील के डिब्बे में बंद करके फ्रिज में रखे धनिया बहुत दिनों तक ताज़ी रहेगी.

३०)पनीर को पानी में डाल के रखे पनीर जल्दी खराब नहीं होगा और सॉफ्ट रहेगा.

३१)हरी सब्जियों को पकाते समय अगर एक चौथाई चम्मच चीनी मिला दे तो सब्जियों का रंग अच्छा रहता है

३२)गोभी बनाते समय उसमे दो चम्मच दूध और नमक मिला दे तो गोभी का रंग सफ़ेद ही रहता है

३३)प्याज़ काटने से पहले अगर उसे फ्रिज में रख दे तो आँखों में नहीं लगेगा

३४)आटा गूंधने के बाद उसमें थोडा सा तेल लगा दे तो वह मुलायम बना रहता है.

३५)यदि आप डेजर्ट खीर या कस्टर्ड बना रहे हों तो भारी तले का बर्तन इस्तेमाल करें, इससे बर्तन जलेगा नहीं और डेजर्ट का स्वाद भी बढ़ेगा

३६)यदि आप डेजर्ट में क्रीमी टेक्चर चाहती हैं तो फुल क्रीम दूध का इस्तेमाल करे

३७)चावल में एक टी स्पून तेल और कुछ बूंदे नींबू के रस की मिलाने से वह पकने के बाद खिलाखिला रहेगा

३८)यदि आप रात को छोला या राजमा भिगोना भूल गए हो तो उबलते पानी में चना या राजमा को भिगोए, इसे आप एक घंटे के बाद एक चम्मच तेल मिला के पका सकती हैं

३९)सख्त नींबू को अगर गरम पानी में कुछ देर के लिए रख दिया जाये तो उसमें से आसानी से अधिक रस निकाला जा सकता है

४०)महीने में एक बार मिक्सर और ग्राइंडर में नमक डालकर चला दिया जाये तो उसके ब्लेड तेज हो जाते हैं

४१)मेथी की कड़वाहट हटाने के लिये थोड़ा सा नमक डालकर उसे थोड़ी देर के लिये अलग रख दें

४२)एक टीस्पून शक्कर को भूरा होने तक गरम करे, केक के मिश्रण में इस शक्कर को मिला दे ऐसा करने पर केक का रंग अच्छा आयेगा

४३)आलू के पराठे बनाते समय आलू के मिश्रण में थोड़ी सी कसूरी मेथी मिला दे, पराठे इतने स्वादिष्ट होंगे कि हर कोई ज्यादा खाना चाहेगा

४४)आटा गूंधते समय पानी के साथ थोड़ा सा दूध मिलाये इससे रोटी और पराठे का स्वाद बदल जाएगा और वो बहुत मुलायम बनेगे

४५)चीनी के डिब्बे में 5-6 लौंग डाल दी जाये तो उसमें चींटिया नही आयेगी

४६)कटे हुए सेब पर नींबू का रस लगाने से सेब काला नही पड़ेगा

४७)ज”प्राचीन स्वास्थ्य दोहावली”

पानी में गुड डालिए, बीत जाए जब रात!

सुबह छानकर पीजिए, अच्छे हों हालात!!

धनिया की पत्ती मसल, बूंद नैन में डार!

दुखती अँखियां ठीक हों, पल लागे दो-चार!!

ऊर्जा मिलती है बहुत, पिएं गुनगुना नीर!

कब्ज खतम हो पेट की, मिट जाए हर पीर!!

प्रातः काल पानी पिएं, घूंट-घूंट कर आप!

बस दो-तीन गिलास है, हर औषधि का बाप!!

ठंडा पानी पियो मत, करता क्रूर प्रहार!

करे हाजमे का सदा, ये तो बंटाढार!!

भोजन करें धरती पर, अल्थी पल्थी मार!

चबा-चबा कर खाइए, वैद्य न झांकें द्वार!!

प्रातः काल फल रस लो, दुपहर लस्सी-छांस!

सदा रात में दूध पी, सभी रोग का नाश!!

प्रातः- दोपहर लीजिये, जब नियमित आहार!                                                  

तीस मिनट की नींद लो, रोग न आवें द्वार!!

भोजन करके रात में, घूमें कदम हजार!

डाक्टर, ओझा, वैद्य का , लुट जाए व्यापार !!

घूट-घूट पानी पियो, रह तनाव से दूर!

एसिडिटी, या मोटापा, होवें चकनाचूर!!

अर्थराइज या हार्निया, अपेंडिक्स का त्रास!

पानी पीजै बैठकर,  कभी न आवें पास!!

रक्तचाप बढने लगे, तब मत सोचो भाय!

सौगंध राम की खाइ के, तुरत छोड दो चाय!!

सुबह खाइये कुवंर-सा, दुपहर यथा नरेश!

भोजन लीजै रात में, जैसे रंक सुरेश!!

देर रात तक जागना, रोगों का जंजाल!

अपच,आंख के रोग सँग, तन भी रहे निढाल^

दर्द, घाव, फोडा, चुभन, सूजन, चोट पिराइ!

बीस मिनट चुंबक धरौ, पिरवा जाइ हेराइ!!

सत्तर रोगों कोे करे, चूना हमसे दूर!

दूर करे ये बाझपन, सुस्ती अपच हुजूर!!

भोजन करके जोहिए, केवल घंटा डेढ!

पानी इसके बाद पी, ये औषधि का पेड!!

अलसी, तिल, नारियल, घी सरसों का तेल!

यही खाइए नहीं तो, हार्ट समझिए फेल!

पहला स्थान सेंधा नमक, पहाड़ी नमक सु जान!

श्वेत नमक है सागरी, ये है जहर समान!!

अल्यूमिन के पात्र का, करता है जो उपयोग!

आमंत्रित करता सदा, वह अडतालीस रोग!!

फल या मीठा खाइके, तुरत न पीजै नीर!

ये सब छोटी आंत में, बनते विषधर तीर!!

चोकर खाने से सदा, बढती तन की शक्ति!

गेहूँ मोटा पीसिए, दिल में बढे विरक्ति!!

रोज मुलहठी चूसिए, कफ बाहर आ जाय!

बने सुरीला कंठ भी, सबको लगत सुहाय!!

भोजन करके खाइए, सौंफ,  गुड, अजवान!

पत्थर भी पच जायगा, जानै सकल जहान!!

लौकी का रस पीजिए, चोकर युक्त पिसान!

तुलसी, गुड, सेंधा नमक, हृदय रोग निदान!

चैत्र माह में नीम की, पत्ती हर दिन खावे !

ज्वर, डेंगू या मलेरिया, बारह मील भगावे !!

सौ वर्षों तक वह जिए, लेते नाक से सांस!

अल्पकाल जीवें, करें, मुंह से श्वासोच्छ्वास!!

सितम, गर्म जल से कभी, करिये मत स्नान!

घट जाता है आत्मबल, नैनन को नुकसान!!

हृदय रोग से आपको, बचना है श्रीमान!

सुरा, चाय या कोल्ड्रिंक, का मत करिए पान!!

अगर नहावें गरम जल, तन-मन हो कमजोर!

नयन ज्योति कमजोर हो, शक्ति घटे चहुंओर!!

तुलसी का पत्ता करें, यदि हरदम उपयोग!मिट जाते हर उम्र में,तन में सारे रोग।

 👉जीवनोपयोगी बातें :-

1- सुबह उठ कर कैसा पानी पीना चाहिए?

उत्तर:   हल्का गर्म

2- पानी पीने का क्या तरीका होता है?

उत्तर  सिप सिप करके व नीचे बैठ कर.

3 -खाना कितनी बार चबाना चाहिए?

उत्तर:  32 बार

4- पेट भर कर खाना कब खाना चाहिए?

उत्तर:  सुबह.

5- सुबह का खाना कब तक खा लेना चाहिए?

उत्तर: सूरज निकलने के ढाई घण्टे तक.

6- सुबह खाने के साथ क्या पीना चाहिए?

उत्तर:  जूस

7- दोपहर को खाने के साथ क्या पीना चाहिए?

उत्तर:  लस्सी/छाछ.

8 -रात को खाने के साथ क्या पीना चाहिए?

उत्तर:  दूध.

9 -खट्टे फल किस समय नही खाने चाहिए?

उत्तर:  रात को.

10 -लस्सी खाने के साथ कब पीनि चाहिए?

उत्तर:  दोपहर को.

11 -खाने के साथ जूस कब लिया जा सकता है?

उत्तर:  सुबह.

12 -खाने के साथ दूध कब ले सकते है?

उत्तर:  रात को.

13 -आईसक्रीम कब खानी चाहिए?

उत्तर:  कभी नही.

14- फ्रीज़ से निकाली हुई चीज कितनी देर बाद खानी चाहिए?

उत्तर:  1 घण्टे बाद.

15- क्या कोल्ड ड्रिंक पीना चाहिए?

उत्तर:  नहीं.

16 -बना हुआ खाना कितनी देर बाद तक खा लेना चाहिए?

उत्तर:  40 मिनट.

17–रात को कितना खाना खाना चाहिए?

उत्तर:   न के बराबर.

18 -रात का खाना किस समय कर लेना चाहिए?

उत्तर:- सूरज छिपने से पहले.

19 -पानी खाना खाने से कितने समय पहले पी सकते हैं?

उत्तर:  48 मिनट

20-क्या रात को लस्सी पी सकते हैं?

उत्तर:  नही.

21 -सुबह खाने के बाद क्या करना चाहिए?

उत्तर:  काम

22 -दोपहर को खाना खाने के बाद क्या करना चाहिए ?

उत्तर:  आराम.

23 -रात को खाना खाने के बाद क्या करना चाहिए?

उत्तर:  500 कदम चलना चाहिए.

24 -खाना खाने के बाद हमेशा क्या करना चाहिए?

उत्तर:  वज्र आसन.

25 -खाना खाने के बाद वज्रासन कितनी देर करना चाहिए?             

 उत्तर:  5-10 मिनट.

26 -सुबह उठ कर आखों मे क्या डालना चाहिए?

उत्तर:  मुंह की लार.

27 -रात को किस समय तक सो जाना चाहिए

उत्तर:  9-10बजे तक.

28- तीन जहर के नाम बताओ?

उत्तर: चीनी, मैदा, सफेद नमक.

29 -दोपहर को सब्जी मे क्या डाल कर खाना चाहिए?

उत्तर:  अजवायन.

30 -क्या रात को सलाद खानी चाहिए?

उत्तर:  नहीं.

31 -खाना हमेशा कैसे खाना चाहिए

उत्तर:  नीचे बैठकर व खूब चबाकर.

32 -चाय कब पीनी चाहिए?

उत्तर:  कभी नहीं.

33- दूध मे क्या डाल कर पीना चाहिए?

उत्तर:  हल्दी.

34–दूध में हल्दी डालकर क्यों पीनी चाहिए?

उत्तर:  कैंसर ना हो इसलिए.

35 -कौन सी चिकित्सा पद्धति ठीक है?

उत्तर:  आयुर्वेद.

36 -सोने के बर्तन का पानी कब पीना चाहिए?

उत्तर:  अक्टूबर से मार्च (सर्दियों मे)?

37–ताम्बे के बर्तन का पानी कब पीना चाहिए?

उत्तर:   जून से सितम्बर(वर्षा ऋतु).

38 -मिट्टी के घड़े का पानी कब पीना चाहिए?

उत्तर:  मार्च से जून (गर्मियों में).

39 -सुबह का पानी कितना पीना चाहिए?

उत्तर:  कम से कम 2-3 गिलास.

40 -सुबह कब उठना चाहिए?

उत्तर:  सूरज निकलने से डेढ़ घण्टा पहले.

आपसे विनम्र निवेदन है कि यह मैसेज कम से कम 2 लोगो को भेजें:

⁠⁠⁠tips:-))

१)चावल उबलने के बाद जो माढ बचे उसे फेके नहीं उसमे नीबू का रस मिला के उसे बालो में लगाये बाल चमकदार और मुलायम हो जायेंगे.

२)पनीर बनाने के बाद जो दूध का पानी बचे उससे आटा गुंथे, रोटी पराठे बहुत स्वादिष्ट बनेगे.

३)अगर मिक्स वेज कटलेट बना रहे है तो सब्जी उबलने के बाद जो पानी बचे उसे सूप में या फिर दाल पकाने में डाल दे दाल बहुत ही स्वादिष्ट बनेगी.

४)लौकी का हलवा बनाते समय अगर लौकी में मलाई डाल के भूने तो हलवा अधिक स्वादिष्ट बनेगा.

५)मिर्च पाउडर को डिब्बे में भरने से पहले तली में थोडा सी हींग डालने से उसमे कीड़े नहीं पड़ते है.

६)दही बड़े बनाते समय पिसी हुई दाल में थोडा दही मिला के फेटे दही बड़े अधिक स्वादिष्ट और मुलायम बनेगे.

७)अंकुरित दालो को ज्यादा समय तक ताजा रखने के लिए नीबू का रस मिला कर फ्रिज में रखे.

८)कचौडिया बनाते समय मैदे में थोडा सा दही डाल के गुथे. कचौडिया मुलायम बनेगी.

९)दही जमाते समय दूध में थोडा सा नारियल का टुकड़ा डाल दे दही 2-3 दिनों तक ताजा रहेगा.

१०)मूंगदाल के चीले बनाते समय दाल में 2 बडे चम्मच चावल का आटा मिला दे, चीले कुरकुरे बनेगे.

११)देसी घी को ज्यादा दिनों तक ताजा रखने के लिए उसमे एक टुकड़ा गुड़ और एक टुकड़ा सेंधा नमक डाल दे. घी ताजा बना रहेगा.

१२)पेपर डोसा बनाते समय मिश्रण में 2 चम्मच मक्के का आटा मिला दे दोसे करारे बनेगे.

१३)नीबू का रस निचोड़ने के बाद छिल्का फेके नहीं छिल्के को किसी साफ़ बरनी में डालती जाये साथ में नमक भी डाल दे बीच बीच में धूप में रख दे कुछ ही दिनों में नीबू का आचार तैयार हो जायेगा.

१४)पनीर या चीज़ कद्दुकस करते समय कद्दूकस पर थोडा तेल लगा ले पनीर और चीज़ चिपकेगा नहीं.

१५)सुबह गोभी की सब्जी बनानी है तो गोभी को रात में बड़े टुकडो में तोड़ कर नमक के पानी में डाल कर रख दे गोभी के कीड़े निकल जायेगे तथा गोभी सफ़ेद और खिली खिली बनेगी.

१६)दूध या खीर जल जाये तो उसमे 2-3 पान के पत्ते डाल के गर्म करे जलने की खुशबू चली जाएगी.

१७)केक बनाते समय मैदा और बेकिंग पाउडर ताजा ही डाले नहीं तो वह अच्छे से नहीं फूलेगा.

१८)चावल में चूने के टुकड़े डाल कर रखने से कीड़े नहीं पड़ेगे.

१९)संतरे के सूखे छिलकों को जलाने से मच्छर भाग जाते है.

२०)धनिया के पत्तो की चटनी बनाते समय थोडा सा खसखस डालने से बहुत स्वादिष्ट चटनी बनती है .

२१)बचे हुए ढोकले या इडली को छोटे टुकडो में काट कर बेसन के घोल में डुबा कर पकोड़े बना ले.

२२)भिन्डी बनाते समय एक चम्मच दही डाल दे तो भिन्डी बर्तन में चिपकेगी नहीं और बहुत स्वादिष्ट बनेगी.

२३)इडली दोसे का घोल अगर खट्टा हो गया है तो थोडा नारियल का दूध मिला दे खटास दूर हो जाएगी.

२४)मिर्च के डंठल तोड़ के फ्रिज में रखे बहुत दिनों तक मिर्च खराब नहीं होंगे.

२५)हलवा बनाते समय सूजी में गरम पानी डाले तो गाठे नहीं पड़ेगी.

२६)पालक का सूप बनाते समय पालक को उबालते समय लौकी के कुछ टुकडो को डाल दे पालक का कसैलापन दूर हो जायेगा.

२७)सूजी और दलिया हमेशा भून कर रखे कीड़े भी नहीं पड़ेगे और बनाते समय भी आसानी होगी.

२८)दही अगर खट्टा हो गया है तो दही को बड़े बर्तन में डाल के ऊपर से पानी भर दे. 4-5 घंटे के बाद पानी ऊपर आ जायेगा उसे धीरे से निकाल दे दही का खट्टापन दूर हो जायेगा.

२९)धनिया के डंठल काट के बारीक कपडे में लपेट कर स्टील के डिब्बे में बंद करके फ्रिज में रखे धनिया बहुत दिनों तक ताज़ी रहेगी.

३०)पनीर को पानी में डाल के रखे पनीर जल्दी खराब नहीं होगा और सॉफ्ट रहेगा.

३१)हरी सब्जियों को पकाते समय अगर एक चौथाई चम्मच चीनी मिला दे तो सब्जियों का रंग अच्छा रहता है

३२)गोभी बनाते समय उसमे दो चम्मच दूध और नमक मिला दे तो गोभी का रंग सफ़ेद ही रहता है

३३)प्याज़ काटने से पहले अगर उसे फ्रिज में रख दे तो आँखों में नहीं लगेगा

३४)आटा गूंधने के बाद उसमें थोडा सा तेल लगा दे तो वह मुलायम बना रहता है.

३५)यदि आप डेजर्ट खीर या कस्टर्ड बना रहे हों तो भारी तले का बर्तन इस्तेमाल करें, इससे बर्तन जलेगा नहीं और डेजर्ट का स्वाद भी बढ़ेगा

३६)यदि आप डेजर्ट में क्रीमी टेक्चर चाहती हैं तो फुल क्रीम दूध का इस्तेमाल करे

३७)चावल में एक टी स्पून तेल और कुछ बूंदे नींबू के रस की मिलाने से वह पकने के बाद खिलाखिला रहेगा

३८)यदि आप रात को छोला या राजमा भिगोना भूल गए हो तो उबलते पानी में चना या राजमा को भिगोए, इसे आप एक घंटे के बाद एक चम्मच तेल मिला के पका सकती हैं

३९)सख्त नींबू को अगर गरम पानी में कुछ देर के लिए रख दिया जाये तो उसमें से आसानी से अधिक रस निकाला जा सकता है

४०)महीने में एक बार मिक्सर और ग्राइंडर में नमक डालकर चला दिया जाये तो उसके ब्लेड तेज हो जाते हैं

४१)मेथी की कड़वाहट हटाने के लिये थोड़ा सा नमक डालकर उसे थोड़ी देर के लिये अलग रख दें

४२)एक टीस्पून शक्कर को भूरा होने तक गरम करे, केक के मिश्रण में इस शक्कर को मिला दे ऐसा करने पर केक का रंग अच्छा आयेगा

४३)आलू के पराठे बनाते समय आलू के मिश्रण में थोड़ी सी कसूरी मेथी मिला दे, पराठे इतने स्वादिष्ट होंगे कि हर कोई ज्यादा खाना चाहेगा

४४)आटा गूंधते समय पानी के साथ थोड़ा सा दूध मिलाये इससे रोटी और पराठे का स्वाद बदल जाएगा और वो बहुत मुलायम बनेगे

४५)चीनी के डिब्बे में 5-6 लौंग डाल दी जाये तो उसमें चींटिया नही आयेगी

४६)कटे हुए सेब पर नींबू का रस लगाने से सेब काला नही पड़ेगा

४७)जली हुए त्वचा पर मैश किया हुआ केला लगाने से ठंडक मिलती है

४८)किचन के कोनो में बोरिक पाउडर छिड़कने से कॉकरोच नही आयेंगे

४९)लहसुन के छिलके को हल्का सा गरम करने से वो आसानी से उतर जाते हैं

५०)हरी मटर को अधिक समय तक ताजा रखने के लिए प्लास्टिक की थैली में डालकर फ्रिजर में रख देंली हुए त्वचा पर मैश किया हुआ केला लगाने से ठंडक मिलती है

४८)किचन के कोनो में बोरिक पाउडर छिड़कने से कॉकरोच नही आयेंगे

४९)लहसुन के छिलके को हल्का सा गरम करने से वो आसानी से उतर जाते हैं

५०)हरी मटर को अधिक समय तक ताजा रखने के लिए प्लास्टिक की थैली में डालकर फ्रिजर में रख दें0000000

2 Comments

Filed under Uncategorized

2 responses to “प्राचीन स्वास्थ्य दोहावली -जीवनोपयोगी बातें

  1. Bahut achchhi jankari. Dhanyawad.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s